अमेरिका ने रुस पर लगाया प्रतिबंध, 35 राजनयिकों को निकाला

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा 20 जनवरी को अपने पद से रिटायर हो रहे हैं। जाने से पहले उन्‍होंने रूस के खिलाफ नए प्रतिबंध लगाने का ऐलान कर दिया है। राष्‍ट्रपति चुनावों में रूस की ओर से हुई हैकिंग के बाद इलेक्‍ट्रोरल प्रोसेस को प्रभावित करने के आरोप के बाद ओबामा ने रूस की इंटेलीजेंस एजेंसियों को बैन कर दिया। साथ ही साथ रूस के 35 राजनयिकों को भी अमेरिका से निकाल दिया गया है।

कुछ दिनों पहले एफबीआई और अमेरिकी इंटेलीजेंस एजेंसी सीआईए ने कहा था कि रूस के राष्‍ट्रपति ब्‍लादीमिर पुतिन की शह पर जासूसी एजेंसी ने चुनावों से पहले हैकिंग को को अंजाम दिया। रिपब्लिकन पार्टी के उम्‍मीदवार डोनाल्‍ड ट्रंप को चुनाव में जीत मिले इसलिए इस हैकिंग के जरिए कई सीक्रेट इनफॉर्मेशन लीक की गईं।

loading...

राष्‍ट्रपति ओबामा पहले ही कह चुके हैं कि वह हैकिंग की जांच कराएंगे। सीबीएस न्‍यूज की ओर से कहा गया है कि व्‍हाइट हाउस इस तरह के उपाय करने जा रहा है कि आने वाला प्रशासन उन्‍हें खारिज न कर पाए। हालांकि ट्रंप हैकिंग में रूस के शामिल होने की बात से साफ इंकार कर चुके हैं। लेकिन साथ ही उन्‍होंने इसकी पूरी जांच की मांग भी की थी। नए राष्‍ट्रपति ट्रंप चुनावों से पहले और इसके बाद रूस के साथ अच्‍छे संबंधों की वकालत कर रहे हैं। ऐसे में यह देखना होगा कि जब वह 20 जनवरी को ऑफिस संभालेंगे तो तस्‍वीर क्‍या होगी।

वहीं रूस ने कहा कि अमेरिका का ऐसा कदम उसे भड़काने वाला समझा जाएगा और फिर अमेरिका को इसकी प्रतिक्रिया के लिए तैयार रहना होगा। इन प्रतिबंधों के तहत रूस उन व्‍यक्तियों का नाम भी सार्वजनिक करेगा जो हैकिंग में शामिल थे और सरकार के साथ काफी करीब होकर काम कर रहे थे।

रूस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता की ओर से कहा गया है कि अगर अमेरिका इस तरह के कदम उठाता है तो फिर अमेरिका में रूस के दूतावास की ओर से इसका जवाब दिया जाएगा। रूस में अमेरिकी डिप्‍लोमैट्स को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।


फेसबुक पर हमारा पेज यहाँ लाइक करे…

Loading...

Be the first to comment on "अमेरिका ने रुस पर लगाया प्रतिबंध, 35 राजनयिकों को निकाला"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*